जैव विविधता के संरक्षण के लिए जैव-भौगोलिक वर्गीकरण | The Bio-Geographic Classification For The Conservation Of Biodiversity

The Bio-geographic Classification for the Conservation of Biodiversity | जैव विविधता के संरक्षण के लिए जैव-भौगोलिक वर्गीकरण

जैव विविधता के संरक्षण के लिए जैव-भौगोलिक वर्गीकरण इस प्रकार है:

जैव-भौगोलिक क्षेत्र भारत के :

के संरक्षण की योजना बनाने के लिए जैव विविधता जैव राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर -भूगोल के आधार पर पारितंत्रों का वर्गीकरण किया जाता है।

जैव-भौगोलिक वर्गीकरण नियोजन के निम्नलिखित चार स्तरों का उपयोग करता है:

(ए) जीवविज्ञान क्षेत्र:

यह समान पारिस्थितिकी, बायोम प्रतिनिधित्व, समुदाय और प्रजातियों की एक बड़ी विशिष्ट इकाई है, जैसे, तट, द्वीप, आदि।

(बी) जैविक प्रांत:

यह एक जैव-भौगोलिक क्षेत्र के भीतर माध्यमिक इकाई है, जो विशेष समुदाय को वजन देती है।

(सी) भूमि क्षेत्र:

यह एक प्रांत के भीतर इकाइयों का एक तृतीयक समूह है। यह विभिन्न भूमि रूपों को इंगित करता है।

(डी) बायोम:

यह एक पारिस्थितिक इकाई है और जैव-भौगोलिक क्षेत्रों या प्रांतों में पाई जाती है।

भारत के जैव-भौगोलिक क्षेत्रों की विशेषताओं की व्याख्या:

प्रमुख जैव-भौगोलिक क्षेत्रों का संक्षिप्त विवरण नीचे दिया गया है:

(i) ट्रांस-हिमालयी क्षेत्र:

जलवायु ठंडी है, वनस्पति पर्वत प्रकार है, भेड़, बकरी, हिम तेंदुआ आदि जानवर पाए जाते हैं।

सियाचिन, लेह और श्रीनगर इस क्षेत्र के महत्वपूर्ण स्थान हैं।

(ii) हिमालयी क्षेत्र:

पूर्व, पश्चिम, मध्य और उत्तर-पश्चिम हिमालय इस क्षेत्र के चार जैविक प्रांत हैं। इसमें तीन जलवायु क्षेत्र और तीन वनस्पति क्षेत्र हैं। हाथी, वानर, बाघ, शेर, भालू आदि इस क्षेत्र के मुख्य जानवर हैं। अरुणाचल प्रदेश, जम्मू और कश्मीर इस क्षेत्र के महत्वपूर्ण स्थान हैं।

(iii) उत्तर-पूर्वी भारत:

भारी वर्षा के कारण जलवायु अत्यधिक नम है। बांस, खट्टे पौधे, केला आदि इस क्षेत्र की महत्वपूर्ण वनस्पति हैं। हाथी इस क्षेत्र का प्रमुख पशु है। चेरापूंजी, इंफाल, शिलांग आदि इस क्षेत्र के महत्वपूर्ण स्थान हैं।

(iv) उत्तर-पश्चिम रेगिस्तानी क्षेत्र:

गर्मी बहुत गर्म और शुष्क होती है; सर्दी ठंडी है; वर्षा कम है। भू-वनस्पति और घास इस क्षेत्र की प्रमुख वनस्पति हैं। इंडियन बस्टर्ड (अत्यधिक लुप्तप्राय प्रजाति) इस क्षेत्र में जीवित रहने वाला जानवर है।

जोधपुर, जैसलमेर आदि इस अंचल के महत्वपूर्ण स्थान हैं।

(v) गंगा का मैदान:

मध्यम तापमान और मध्यम वर्षा विशिष्ट जलवायु है। इस क्षेत्र में घास, पिसी हुई सब्जियां, फल, फूल वाले पौधों की कई प्रजातियां पाई जाती हैं। बाघ, तेंदुआ, बंदर, वानर और हाथी इस क्षेत्र के प्रमुख जानवर हैं। लखनऊ, इलाहाबाद, पटना और कोलकाता इस अंचल के महत्वपूर्ण स्थान हैं।

(vi) अर्ध-शुष्क क्षेत्र:

मध्यम वर्षा और तापमान विशिष्ट जलवायु है। इस क्षेत्र में मिश्रित पर्णपाती, कांटेदार और प्रकार के वन पाए जाते हैं।

इंदौर। बिलासपुर, जबलपुर और संबलपुर इस अंचल के महत्वपूर्ण स्थान हैं।

(vii) डेक्कन प्रायद्वीप क्षेत्र:

इस क्षेत्र में औसत वार्षिक वर्षा कम होती है। यह क्षेत्र मध्य भारत से दक्षिण भारत तक फैला हुआ है।

रायपुर, हैदराबाद, बैंगलोर आदि इस क्षेत्र के महत्वपूर्ण स्थान हैं।

(viii) पूर्वी और पश्चिमी समुद्री तट:

इस क्षेत्र में न तो मौसम बहुत गर्म होता है और न ही बहुत ठंडा। इस क्षेत्र में मैंग्रोव (एस्टुआरिन इकोसिस्टम) पाए जाते हैं। तिरुवनंतपुरम, चेन्नई, मुंबई आदि इस क्षेत्र में स्थित हैं।

(ix) पश्चिमी घाट क्षेत्र:

बारिश भारी है; मौसम न ज्यादा गर्म और न ज्यादा ठंडा। विभिन्न प्रकार के वन अर्थात. इस क्षेत्र में उष्णकटिबंधीय नम सदाबहार, मैंग्रोव, मिश्रित पर्णपाती, समशीतोष्ण सदाबहार प्रकार पाए जाते हैं।

पुणे, सूरत आदि इस क्षेत्र में स्थित हैं।

(x) द्वीप क्षेत्र:

मौसम नम है, न ज्यादा ठंडा और न ज्यादा गर्म। इस क्षेत्र में मैंग्रोव, समुद्र तट के जंगल, ऊंचे पेड़ों के जंगल आदि पाए जाते हैं। पोर्ट ब्लेयर, कवरत्ती आदि इस क्षेत्र में स्थित हैं।


You might also like