सब्जियों और फलों के मूल्य पर निबंध हिन्दी में | Essay On The Value Of Vegetables And Fruit in Hindi

सब्जियों और फलों के मूल्य पर निबंध 500 से 600 शब्दों में | Essay On The Value Of Vegetables And Fruit in 500 to 600 words

सब्जियों और फलों के मूल्य पर लघु निबंध। डॉक्टर्स का कहना है कि सभी को चावल या गेहूं से ज्यादा सब्जियां और फल लेने चाहिए।

चावल और गेहूं में बहुत अधिक कार्बोहाइड्रेट होता है जो ऊर्जा के लिए काफी आवश्यक होता है। लेकिन चावल और गेहूं का अधिक और सब्जियों और फलों का कम सेवन संतुलित आहार नहीं है। सब्जियों और फलों में विटामिन, कैल्शियम, आयरन, फास्फोरस, फोलिक एसिड, आयोडीन, मैग्नीशियम, जिंक आदि जैसे पोषक तत्व होते हैं। हरी पत्तेदार सब्जियों में बहुत सारे पोषक तत्व होते हैं, खासकर कैल्शियम और आयरन। हमें प्रतिदिन एक प्रकार की हरी पत्तेदार सब्जी का सेवन करना चाहिए। पालक सेहत के लिए काफी अच्छा होता है।

अनाज जैसे बंगाल- चना, बीन्स, काला चना, चना, मक्का, बाजरा, राग, लाल चना आदि में बहुत अधिक प्रोटीन होता है जो हमारे विकास के लिए आवश्यक है। आयरन और कैल्शियम स्वस्थ हड्डियों में योगदान करते हैं। हींग पेट की गैस से राहत दिलाता है। मूत्रालय, बंदगोभी, गाजर और गुच्छ-बीन्स में रेशेदार पदार्थ होते हैं जो व्यक्ति को कब्ज से राहत दिलाते हैं। खीरा, मूली, भिंडी, आलू, टमाटर, सर्प-लौकी आदि को अक्सर हमारे खाने की चीजों में जगह मिलनी चाहिए। सभी फल सेहत के लिए अच्छे होते हैं। हम में से कई लोगों को फल खाने की आदत नहीं होती है। यह बहुत बुरा है। संतरा, सेब, केला, अंगूर आदि का सेवन करने से हम स्वस्थ रहेंगे।

गर्मियों में कोल्ड ड्रिंक पीना युवाओं की आदत है। कोल्ड ड्रिंक की जगह वे नारियल पानी, छाछ या दूध ले सकते हैं। कुछ समय पहले कोल्ड ड्रिंक्स बनाने वाली कंपनियों के खिलाफ कानूनी केस भी हुआ था। आरोप था कि कुछ कोल्ड ड्रिंक्स में थोड़ी मात्रा में कीटनाशक होता है। कुछ कोल्ड ड्रिंक्स में थोड़ा सा कीटनाशक मिला दिया जाता है ताकि पीने वालों को फायदा हो। संतरा, सेब, अनानास, अनार, अंगूर, टमाटर, नींबू आदि किसी भी फल के फलों का रस स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा होता है।

अगर हम अपने खान-पान में बदलाव करें तो हम अपने खाने से जरूरी पोषक तत्व प्राप्त कर कई बीमारियों से निजात पा सकते हैं। युवाओं को पर्याप्त सब्जियां और फल लेने की आदत सीखनी चाहिए।

आजकल लड़के-लड़कियां जंक फूड खाना पसंद करते हैं। शब्दकोश में जंक फूड को कम पोषण मूल्य वाले भोजन के रूप में वर्णित किया गया है। लड़के-लड़कियां फ्राइड चिप्स, चीज बॉल्स, अलग-अलग वैरायटी की आइसक्रीम, चॉकलेट बार आदि खाते हैं। यंगस्टर्स आदतन ये चीजें खाते हैं जो सेहत के लिए अच्छी नहीं होती हैं। ऐसा कहा जाता है कि चॉकलेट खाने से अक्सर दांत खराब हो जाते हैं। एक अखबार में एक लंबा लेख था जिसमें युवाओं को जंक फूड और चॉकलेट न खाने की सलाह दी गई थी। लेख के लेखक ने बच्चों को फल खाने की सलाह दी है। वास्तव में प्रतिदिन कम से कम एक प्रकार के फल को हमारे खाद्य पदार्थों में जगह मिलनी चाहिए।

आजकल कुछ लड़के-लड़कियां कहते हैं कि उन्हें केवल यूरिनल, आलू या सहजन पसंद है। उन्हें हर तरह की सब्जियां लेनी चाहिए। ऐसा कहा जाता है कि सब्जियों का रंग उनके विशेष पोषक तत्व को दर्शाता है। यूरिनल का बैंगनी या हरा रंग एक विशेष पोषक तत्व को दर्शाता है, क्लस्टर-बीन्स या सर्प-लौकी का हरा रंग एक विशेष पोषक तत्व को दर्शाता है। युवाओं को जंक फूड से बचने और सब्जियां, फल और मेवे खाने की सलाह दी जानी चाहिए।’


You might also like