श्रम का महत्व पर हिन्दी में निबंध | Essay on The Importance Of Labour in Hindi

श्रम का महत्व पर निबंध 500 से 600 शब्दों में | Essay on The Importance Of Labour in 500 to 600 words

श्रम के महत्व पर नि: शुल्क नमूना निबंध। श्रम जीवन में सफल होने की कुंजी है। जीवन में सफल होने के लिए यह एक बुनियादी चीज है। हम श्रम के बिना जीवन में सफलता या उपलब्धि की कल्पना नहीं कर सकते। हम सपने देखते हैं, इच्छा करते हैं, लेकिन यह श्रम ही है जो हमारे सपनों को हकीकत में बदल देता है।

मानव सभ्यता की यात्रा श्रम के महत्व पर प्रकाश डालती है। यह उनका श्रम है जिसने उन्हें पाषाण युग से कंप्यूटर युग में लाया। यह श्रम की सफलता की कहानी है। अक्सर हम काम को कठिन और अप्रिय पाते हैं, लेकिन हमें इसे करना ही पड़ता है। हमारे पास अपने सपने को साकार करने के लिए कड़ी मेहनत के अलावा कोई रास्ता नहीं है। जानवरों को भी भोजन पाने के लिए मेहनत करनी पड़ती है। जीवन के लिए श्रम अनिवार्य है। श्रम के बिना जीवन में सफलता लगभग असंभव है।

मेहनत का फल बहुत मीठा होता है। यह संतुष्टि देता है। यह आंतरिक आनंद लाता है। इससे आत्मविश्वास का विकास होता है। आत्मविश्वास जीवन में सफलता का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। श्रम से यश भी मिलता है और धन भी। यह समृद्धि लाता है। यह लत्ता के जीवन को धन के जीवन में बदल देता है। एलएन मित्तल, धीरूभाई अंबानी आदि जैसे महान कॉर्पोरेट दिग्गजों की सफल कहानी श्रम के धागे से बुनी गई है। महात्मा गांधी, रवींद्रनाथ टैगोर, सुभाष चंद्र बोस और पंडित जवाहरलाल नेहरू जैसी महान हस्तियों ने केवल नाम और प्रसिद्धि अर्जित की क्योंकि उन्होंने कड़ी मेहनत की। वे काम से कभी नहीं कतराते थे। उन्होंने समाज के लिए अपने आराम और आराम को त्याग दिया और इतिहास में अपना नाम अमर कर दिया।

श्रम न केवल हमें आनंद देता है, बल्कि यह हमें व्यस्त और स्वस्थ भी रखता है। यह हमें फिट और एक्टिव बनाने में मदद करता है। यह एक लोकप्रिय कहावत है, “दिमाग शैतान की कार्यशाला है।” जब कोई व्यक्ति निष्क्रिय होता है तो वह अनुत्पादक गतिविधियों में लिप्त होता है। यह उसे हताशा की ओर ले जाता है। वह निराशावादी हो जाता है। वह भाग्यवादी हो जाता है। उनके व्यक्तित्व विकास पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। वह अच्छे परिणाम की आकांक्षा के अलावा कुछ नहीं करता। हम सभी जानते हैं कि ईश्वर उसी की मदद करता है जो अपनी मदद खुद करता है। वह हमसे मेहनती होने की उम्मीद करता है। तभी वह हमारी मदद के लिए आगे आता है। वह एक बेकार आदमी की मदद नहीं करता है।

मेहनती आदमी के लिए कुछ भी असंभव नहीं है। यह मनुष्य की कड़ी मेहनत है जिसने उसे चाँद पर उतरने में मदद की। सभी वैज्ञानिक आविष्कारों और खोजों की सफलता का श्रेय श्रम को जाता है। एक पक्षी को भी अपने भोजन की तलाश करनी पड़ती है। पराक्रमी शेर को अपनी भूख मिटाने के लिए शिकार का शिकार करना पड़ता है। कहने का तात्पर्य यह है कि प्रत्येक कार्य में बहुत अधिक श्रम की आवश्यकता होती है।

इसलिए हमें कम उम्र से ही श्रम की आदत डालनी चाहिए। हमें अपने प्रयासों में दृढ़, प्रतिबद्ध और सुसंगत होना चाहिए। जब उचित मात्रा में श्रम लगाया गया हो तो सफलता होने से कुछ भी नहीं होने वाला है। तुम्हारा आना तय है।


You might also like