महात्मा गांधी की जीवनी पर हिन्दी में निबंध | Essay on The Biography Of Mahatma Gandhi in Hindi

महात्मा गांधी की जीवनी पर निबंध 600 से 700 शब्दों में | Essay on The Biography Of Mahatma Gandhi in 600 to 700 words

महात्मा गांधी की जीवनी पर निबंध। महात्मा गांधी एक महान राजनेता, नेता, राजनेता, विद्वान और स्वतंत्रता सेनानी थे। वह एक सार्वजनिक व्यक्ति थे। उन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन का नेतृत्व किया। उनके नेतृत्व में ही वर्षों के संघर्ष के बाद भारत को ब्रिटिश शासन से आजादी मिली। उन्होंने देश को विदेशियों के शासन से मुक्त कराने के लिए कई स्वतंत्रता आंदोलन चलाए। वह शांति और अहिंसा के दूत थे।

महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था। उनके पिता के दीवान थे। राजकोट। उनकी मां एक उच्च धार्मिक महिला थीं। महात्मा गांधी बचपन में एक औसत छात्र थे। वह बहुत नियमित था और अपनी स्कूली शिक्षा के दौरान। एक लड़के के रूप में वे हरिश्चंद्र और सरवण कुमार से प्रभावित थे। वे बचपन में बहुत सच्चे थे। महात्मा गांधी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा घर पर ही प्राप्त की। 17 साल की उम्र में उन्होंने मैट्रिक की परीक्षा पास की। वह कानून की पढ़ाई के लिए इंग्लैंड गए थे। जब उन्होंने अपनी पढ़ाई पूरी की, तो वे भारत लौट आए और बॉम्बे हाई कोर्ट में प्रैक्टिस करने लगे। जब उन्हें एक मामले के सिलसिले में दक्षिण अफ्रीका जाना पड़ा तो वहां गैर-गोरे के साथ किए गए भेदभाव को देखकर उन्हें गहरा दुख हुआ। उन्हें श्वेत सरकार की नीतियों का शिकार बनाया गया। इससे उनका मन बदल गया। उन्होंने उनके अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ी। उन्होंने कष्ट सहे लेकिन अपने विश्वास पर अडिग रहे।

गांधीजी ने भारत लौटने पर राजनीति में प्रवेश किया। जनता की दुर्दशा देखकर वे भावविभोर हो उठे। उन्होंने अहिंसा और सत्याग्रह यानी अहिंसा और सत्य के अपने औजारों से ब्रिटिश सरकार से लड़ाई लड़ी। वास्तव में, उन्होंने अहिंसा के साथ अपना पहला प्रयोग दक्षिण अफ्रीका में किया था। उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ अपनी लड़ाई में उसी हथियार का इस्तेमाल किया। उन्होंने जनता के लिए बहुत कुछ सहा। उन्होंने लोगों के लिए अपना सब कुछ कुर्बान कर दिया। उन्होंने भारत की धरती से अंग्रेजों को उखाड़ फेंकने के लिए कई आंदोलन शुरू किए। उन्होंने असहयोग आंदोलन, सविनय अवज्ञा आंदोलन और भारत छोड़ो आंदोलन शुरू किया। वे द्वितीय गोलमेज सम्मेलन में भाग लेने के लिए इंग्लैंड गए। उन्होंने साहस और दृढ़ विश्वास के साथ अपने देशवासियों के लिए लड़ाई लड़ी।

गांधी जी एक महान समाज सुधारक थे। उन्होंने महिलाओं और दलितों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए कड़ी मेहनत की। उन्होंने सामाजिक न्याय और समानता की वकालत की। उन्होंने जातिवाद, अस्पृश्यता, पर्दा प्रथा, बाल विवाह आदि की आलोचना की। उन्होंने महिला शिक्षा को बढ़ावा दिया। उन्होंने अछूतों को हरिजन कहा। विभिन्न समस्याओं के प्रति उनका दृष्टिकोण अहिंसक था। वे एक महान कार्य करने वाले व्यक्ति थे। उन्होंने भारतीयों को अपने हाथों से काम करने का मूल्य सिखाया। उन्होंने हमें श्रम की गरिमा सिखाई। उन्होंने हिंदू-मुस्लिम एकता के लिए काम किया। जब देश के विभिन्न हिस्सों में सांप्रदायिक दंगे हुए, तो उन्होंने वहां शांति बहाल करने के लिए अपनी जान जोखिम में डाल दी। वह शांति का दूत था। वह सबका मित्र था और किसी का शत्रु नहीं। वह एक ईश्वर का भय मानने वाला व्यक्ति था।

महात्मा गांधी का जीवन शांति, समर्पण, त्याग और भक्ति की मिसाल है। वे एक उत्साही देशभक्त थे। उन्हें प्यार से बापू कहा जाता है। उन्हें राष्ट्रपिता के रूप में भी जाना जाता है। 2 अक्टूबर को उनके जन्मदिन को हर साल राष्ट्रीय त्योहार के रूप में मनाया जाता है। शांति और प्रेम की इस महान आत्मा की 30 जनवरी 1948 को एक उन्मादी हिंदू नाथूराम गोडसे ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। उनकी मृत्यु एक बड़ी राष्ट्रीय क्षति थी। इसने राष्ट्र के जीवन में एक शून्य पैदा कर दिया। उनके जीवन और शिक्षा का लोगों के मन पर अमिट छाप है। जवाहरलाल नेहरू ने उन्हें ‘राष्ट्र का प्रकाश’ कहा।


You might also like