छात्रों के लिए हमारा स्कूल पर हिन्दी में निबंध | Essay on Our School For Students in Hindi

छात्रों के लिए हमारा स्कूल पर निबंध 600 से 700 शब्दों में | Essay on Our School For Students in 600 to 700 words

छात्रों के लिए हमारे स्कूल पर नि: शुल्क नमूना निबंध। एक स्कूल को हमारा अल्मा मेटर कहा जाता है, जो एक लैटिन अभिव्यक्ति है, जिसका अर्थ है ‘उदार मां’। हां, एक उदार मां की तरह एक स्कूल अपने छात्रों को ज्ञान और बुद्धिमान बनाने के महान विचार के साथ अपने छात्रों को भरपूर ज्ञान देता है। हमारा स्कूल निरक्षरता को बाहर निकालने की उच्च अवधारणा से जुड़ा एक विशिष्ट स्कूल है।

यह महान आदर्शवादी को प्रभावित करने वाला एक उत्कृष्ट शिक्षण संस्थान है। डॉ. अम्बेडकर का नाम, जिन्होंने हमारे समाज से उन जातियों पर मुहर लगाने का अथक प्रयास किया, जिन्होंने शैक्षणिक संस्थानों और कार्यालयों में उनके लिए आरक्षण कराकर पिछड़े और दलित वर्गों की शिक्षा के लिए गुहार लगाई। वह सामाजिक सुधारों की वकालत करने वालों में से एक थे, जैसे कि असामाजिकता का उन्मूलन और गरीबों और नीच लोगों के लिए सामाजिक कल्याण योजनाएं लाना। उनके नाम के अनुरूप हमारा स्कूल न केवल अपने छात्रों को सर्वोत्तम शिक्षा देकर बल्कि अधिक से अधिक युवाओं को छात्रों के रूप में नामांकित करने के लिए जोरदार प्रयास करके साक्षरता के अभियान को आगे बढ़ाने में अग्रणी है।

क्या डॉ. अम्बेडकर हाई स्कूल, एक मॉडल स्कूल नहीं है, जिसका मिशन शिक्षा के महत्व के बारे में लोगों और छात्रों के बीच जागरूकता पैदा करना है?

हमारा स्कूल हमारे क्षेत्र के सबसे बड़े स्कूलों में से एक है। हमारे स्कूल में दसवीं तक की क्लास होती है। हमारे क्षेत्र में कई गांव हैं। हमारे स्कूल में सैकड़ों ग्रामीण छात्र पढ़ते हैं। हमारा स्कूल केवल एक शिक्षण संस्थान नहीं है। इसका उद्देश्य आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों से निरक्षरता को दूर करना है। समर्पित ग्राम पंचायती अधिकारियों के सहयोग से हमारा स्कूल एक सामाजिक क्रांति को प्रभावित करने पर आमादा है। मुझे इस विद्यालय की आठवीं कक्षा का छात्र होने पर बहुत गर्व है। मैं क्लास लीडर हूं। मैं अपनी कक्षा के छात्रों के अच्छे व्यवहार के लिए जिम्मेदार हूं। अगर मेरी कक्षा का कोई छात्र पढ़ाई में पिछड़ा हुआ है और परीक्षा में अच्छे अंक नहीं लाता है तो हममें से कुछ उसे तब तक कोचिंग देते हैं जब तक वह हमारी उम्मीदों पर खरा नहीं उतरता। कम होनहार छात्रों को स्वयं छात्रों द्वारा कोचिंग देने की यह प्रणाली हमारे विद्यालय की एक विशेष विशेषता है। क्लास टीचर हमारी कोचिंग की देखरेख करता है और जरूरत पड़ने पर एक मंदबुद्धि छात्र को भी उज्ज्वल बनाने की पूरी कोशिश करता है।

अगर मैं किसी को बताता हूं कि मैं डॉ अम्बेडकर हाई स्कूल में पढ़ता हूं तो वे मुझे प्रशंसा की नजर से देखते हैं। हमारे स्कूल के आसपास के गांवों के लोग इसके बारे में बहुत सोचते हैं।

शिक्षा हमारे देश के प्रत्येक नागरिक का मौलिक अधिकार है। एक बच्चे को शिक्षा से वंचित करना उसके मौलिक अधिकार से वंचित करना है।

निरक्षरता हमारे ग्रामीणों के सामाजिक पिछड़ेपन का मुख्य कारण है। अब समय आ गया है कि ग्रामीण क्षेत्रों के लोग शिक्षा के महत्व को समझें। ग्रामीण अपने जीवन यापन के लिए कृषि पर निर्भर हैं। लेकिन भूमि की खेती से होने वाली आय एक परिवार के लिए जीविका चलाने के लिए पर्याप्त नहीं है। एक पढ़ा-लिखा लड़का या लड़की ऑफिस में नौकरी ढूंढ कर कमा सकता है। यदि एक परिवार में दो या तीन सदस्य कमाते हैं तो वे एक अच्छा जीवन यापन कर सकते हैं।

निरक्षरता ग्रामीण क्षेत्र के लोगों की सबसे बड़ी कमी है। वे जीवन को गंभीरता से नहीं लेते हैं। मेरा मानना ​​है कि ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूलों पर ग्रामीणों को साक्षर बनाने की सामाजिक जिम्मेदारी होनी चाहिए ताकि वे गांवों से बाहर जाकर नौकरी कर सकें।

अगर हर ग्रामीण स्कूल हमारे स्कूल की तरह काम करे तो जल्द ही एक समय आएगा जब ग्रामीण साक्षर हो जाएंगे।


You might also like