खेलों के मूल्य पर बच्चों पर निबंध हिन्दी में | Essay On Kids On The Value Of Games in Hindi

खेलों के मूल्य पर बच्चों पर निबंध 300 से 400 शब्दों में | Essay On Kids On The Value Of Games in 300 to 400 words

के पर बच्चों पर नि: शुल्क नमूना निबंध खेलों मूल्य । “सभी काम और कोई नाटक जैक को सुस्त लड़का नहीं बनाता है” एक पुरानी कहावत है। शारीरिक फिटनेस मानसिक सतर्कता की ओर ले जाती है।

अच्छा स्वास्थ्य ईश्वर का सबसे बड़ा आशीर्वाद है। स्वस्थ व्यक्ति ठीक से सोच सकता है, तुरंत कार्य कर सकता है और लगातार काम कर सकता है। और आज की दुनिया में, काम ही सफलता का एकमात्र रास्ता है। अस्वस्थ व्यक्ति दुखी और व्याकुल रहेगा। खेल हमें शारीरिक रूप से फिट रखते हैं।

सभी खेलों में कुछ नियमों का पालन करना चाहिए। बेईमानी करने वालों को खेलने की अनुमति नहीं है- यदि खेल के नियमों का पालन नहीं किया जाता है, तो खेल मनुष्य की सभ्य गतिविधियाँ नहीं रहेंगे। खेल हमें अनुशासित, सोच और कर्म में बनाते हैं। और समाज के सदस्यों के बीच अनुशासन सबसे बड़ा मूल्य है। हमारी पशु प्रवृत्ति को नियंत्रण में लाया जाता है।

खेल हमें टीम भावना सिखाते हैं। हमें एक टीम के रूप में खेलना चाहिए; व्यक्तियों के रूप में खेलना जीत की संभावना को खराब कर देता है। विरोधी पक्ष को हराने में हर खिलाड़ी दूसरे का सहयोग करता है। यदि हम इसी टीम भावना को अपने दैनिक जीवन में विकसित कर लें तो शायद विश्व की अधिकांश समस्याओं का समाधान हो जाएगा।

खेलते समय कप्तान की बात माननी पड़ती है। मैदान पर खिलाड़ी को कप्तान के फैसले पर विवाद नहीं करना चाहिए। अगर खिलाड़ी उसकी अवज्ञा करने लगे तो मैदान पर अराजकता फैल जाएगी। जीवन में अगर हम घर में माता-पिता, स्कूल में शिक्षकों और देश के कानूनों का पालन करें, तो दुनिया रहने के लिए एक बेहतर जगह होगी।

हार की संभावना से हमें विचलित नहीं होना चाहिए। कभी-कभी हम असफलता से डरते हैं। इसके अलावा, हार से हमें निराश नहीं होना चाहिए। खेल हमें असफलता का सामना करने और अपने दृष्टिकोण में सकारात्मक होने का सही तरीका सिखाते हैं।


You might also like