सफलता कैसे प्राप्त होती है पर हिन्दी में निबंध | Essay on How To Achieve Success in Hindi

सफलता कैसे प्राप्त होती है पर निबंध 600 से 700 शब्दों में | Essay on How To Achieve Success in 600 to 700 words

सफलता कैसे प्राप्त करें पर नि: शुल्क नमूना निबंध। हर कोई जीवन में सफल होना चाहता है। कुछ के लिए सफलता का मतलब है कि वे जो कुछ भी चाहते हैं या सपने देखते हैं उसे प्राप्त करना। कई लोगों के लिए यह नाम, प्रसिद्धि और सामाजिक स्थिति है। सफलता के मायने जो भी हों, सफलता ही इंसान को अमर बनाती है।

सभी महापुरुष सफल हुए हैं। उन्हें उनकी शानदार उपलब्धियों के लिए याद किया जाता है। लेकिन यह तय है कि सफलता उन्हीं को मिलती है जो ईमानदार, मेहनती, समर्पित और अपने लक्ष्य के प्रति प्रतिबद्ध होते हैं।

सफलता मनुष्य की सबसे बड़ी प्रेरणा रही है। यह सभी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। सफलता का जीवन पर बहुत प्रभाव पड़ता है। यह खुशी और गर्व लाता है। यह पूर्ति की भावना देता है। इसका मतलब चारों तरफ विकास है। जीवन में सफल होने की ख्वाहिश हर किसी की होती है। लेकिन सफलता उन्हें मिलती है जिनके पास उचित रणनीति, योजना, दूरदृष्टि और सहनशक्ति होती है। इन सभी चीजों का उचित और समय पर प्रयोग निश्चित ही फल देगा। जीवन में कुछ बुनियादी चीजों को विकसित किए बिना कोई भी सफल नहीं हो सकता है। अपने लक्ष्यों और गंतव्यों को जाने बिना यात्रा निर्धारित करना बहुत कठिन है। जीवन में सफल होने के लिए उद्देश्य की स्पष्टता जरूरी है। उचित योजना के साथ एक केंद्रित दृष्टिकोण सफलता लाने के लिए निश्चित है। अनिर्णय और जिद सफलता की राह में बड़ी बाधा है।

पहले योग्य है फिर इच्छा एक प्रसिद्ध कहावत है। यह वह कदम है जो भविष्य तय करता है। सपनों को हकीकत में बदलने की क्षमता, क्षमता और संसाधन होने चाहिए। केवल इच्छा ही सफलता नहीं दिला सकती। इच्छा को क्षमता और संसाधनों जैसे कारकों के खिलाफ तौला जाना चाहिए। यह सफलता की मूल आवश्यकता है। अगली महत्वपूर्ण बात है उत्सुकता, लगन और सफल होने की ललक। यह वह प्रेरक शक्ति है जो सफलता तय करती है। यह सफलता की सीढ़ी की पहली सीढ़ी है।

व्यक्ति को अपनी पूरी लगन और लगन के साथ अपने लक्ष्य का पीछा करना चाहिए। व्यक्ति को हमेशा उच्च भावना में रहना चाहिए। उसे अपने व्यवसाय और बुलावे को उच्च सम्मान में रखना चाहिए। ऐसी भावना की कमी हीन भावना की ओर ले जाती है जो सफलता के मार्ग में एक बड़ी बाधा है। समय भी एक निर्णायक कारक है। समय पर कर्म करने से मनचाहा फल मिलता है। एक बार खोया हुआ समय कभी वापस नहीं आ सकता। समय अवसर है, इसलिए पूरी तत्परता और गतिविधि के साथ समय का सदुपयोग करें। देरी के खतरनाक परिणाम होते हैं। आराम जीवन की जंग है। केवल समय के पाबंद और प्रतिबद्ध लोग ही जीवन में सफल हुए हैं। महापुरुषों का जीवन इसका उदाहरण है। उनके पास ये सभी सामग्रियां प्रचुर मात्रा में थीं जिससे उन्हें सफलता के शिखर तक पहुंचने में मदद मिली।

कठिन परिश्रम सफलता की मूल पूर्वापेक्षाओं में से एक है। कठिन परिश्रम का कोई विकल्प नहीं है। वही व्यक्ति को सफलता के शिखर पर ले जा सकता है। प्रत्येक सफलता में पाँच प्रतिशत प्रेरणा और नब्बे प्रतिशत पसीने का अनुपात होता है। धैर्य, दृढ़ता और दृढ़ता ही सफलता में निर्णायक भूमिका निभाती है। असफलताएं सफलता के स्तंभ हैं।

वे उन कमियों की ओर इशारा करते हैं जिन्हें दूर करने की आवश्यकता है। दुनिया के सभी महापुरुषों की सफलता इस बात की गवाही देती है। नेपोलियन को उनके गतिशील दृष्टिकोण के लिए उद्धृत किया गया है कि ‘असंभव शब्द केवल मूर्खों के शब्दकोश में पाया जा सकता है’। इसका संदेश है कि हमें असफलताओं के सामने कभी हिम्मत नहीं हारनी चाहिए। शिर्कर्स जीवन में हर जगह असफल होने के लिए अभिशप्त हैं। जो लोग कठिन परिश्रम में विश्वास करते हैं वे कभी भी उपकार और भाग्य में सांत्वना नहीं खोजेंगे।

इस प्रकार, सफलता विभिन्न संयुक्त कारकों का परिणाम है। इनमें से किसी एक की कमी से प्रभाव उल्टा हो सकता है।


You might also like